उद्योग, मकान, दफ्तर के बाद अब स्मार्ट सिटी में धार्मिक स्थल भी सौर ऊर्जा से जगमग होंगे। सेक्टर-29 हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी के सनातन धर्म मंदिर से रविवार को इसकी शुरूआत होने जा रही है। जिसका उद्घाटन केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर करेंगे। मंदिर की संस्था के प्रधान श्रीकांत शर्मा ने यह जानकारी दी।

पर्यावरण की बिगड़ती सेहत को लेकर उठाया कदम

सनातन धर्म मंदिर की संस्था के प्रधान श्रीकांत शर्मा ने बताया कि मौजूदा वक्त में प्रदूषण और आतंकवाद दुनिया के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन गए हैं। दोनों ही मानव जाति के लिए खतरनाक हैं। उन्होंने कहा कि इनमें से प्रदूषण से लड़ने का मन संस्था ने बनाया। इसी के तहत मंदिर पर सौर ऊर्जा का पैनल लगाया गया। श्रीकांत का मानना है कि यह तो एक शुरूआत है, अगर हर धार्मिक स्थल, शिक्षण संस्था, उद्योग आदि बड़े स्थलों पर सौर ऊर्जा का इस्तेमाल शुरू हो जाए तो प्रदूषण को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी को आगे आने होगा।

बिजली विभाग को बेचेंगे बिजली

सनातन धर्म मंदिर की संस्था आम के आम गुठलियों के दाम वाली कहावत पर काम करना चाहती है। संस्था का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया से ग्लोबल वार्मिंग से लड़ने का आह्वान किया है और इसके लिए सौर ऊर्जा को बेहतर उपाय बताया है। संस्था के पदाधिकारियों का कहना है कि प्रधानमंत्री की पहल के बाद हरियाणा सरकार ने सौर ऊर्जा को लेकर जो नीति बनाई है, लोगों को उसका काफी फायदा मिल रहा है। इसी के तहत दस किलोवाट बिजली क्षमता का पैनल मंदिर पर लगाया गया है। उन्होंने कहा कि पैनल को बिजली विभाग की ग्रीड से जोड़ दिया गया है। उन्होंने बताया कि पैनल से जितनी बिजली उत्पादित होती है, वो सीधी ग्रीड में चली जाती है और मंदिर को जितनी बिजली की जरूरत होती है, बिजली विभाग से उतनी बिजली मिल जाती है। उन्होंने बताया कि उत्पादन और मांग के सूत्र को इस पर लागू किया गया है। यानी मांग से ज्यादा उत्पादन होने पर अतिरिक्त बिजली का भुगतान बिजली विभाग मंदिर की संस्था को करेगी और अगर उत्पादन से ज्यादा मांग होगी तो उत्पादन से अतिरिक्त खर्च बिजली का बिल संस्था की तरफ से बिजली विभाग को दिया जाएगा।

मिलेगी दो लाख रुपये की सब्सिडी

सनातन धर्म मंदिर की छत पर लगाए गए सौर ऊर्जा के पैनल पर करीब साढ़े सात लाख रुपये का खर्चा आया है। इसमें से करीब दो लाख रुपये की सब्सिडी, हरियाणा सरकार की तरफ से संस्था को दी जाएगी। प्रधान ने बताया कि सब्सिडी के लिए सरकार को आवेदन कर दिया है। अधिकारियों की तरफ से दो महीने में सब्सिडी देने का आश्वासन मिला है।