Select Page

शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने रविवार को कश्मीर में सुरक्षा बलों पर हो रहे हमलों का संदर्भ देते हुए भारत को ‘हिंदू देश’ घोषित किए जाने की मांग कर डाली। उद्धव ने अपने जन्मदिन की पूर्व संध्या पर दिए साक्षात्कार में कहा, ‘‘अब हमें यह फैसला करना होगा…बस बहुत हो चुका यह ‘धर्मनिरपेक्षता’ का नाटक। अगर हिंदुओं पर हो रहे हमलों को रोकना है तो सिर्फ एक ही रास्ता बचा है कि भारत को ‘हिंदू राष्ट्र’ घोषित कर दिया जाए।’’

उद्धव के साक्षात्कार का पहला हिस्सा रविवार को पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में मराठी में और ‘दोपहर का सामना’ में हिंदी में प्रकाशित हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर हिंदुत्व के बारे में बात करना अपराध है, तो धर्मनिरपेक्षता के संबंध में तो पक्षपात मत करो। यह धर्मनिरपेक्षता के चोंचले बहुत हो गए। न हिंदुत्व न धर्मनिरपेक्ष, ऐसी कैंची में हम अटके पड़े हैं।’’

उद्धव ने कहा, ‘‘जब हिंदुओं को निशाना बनाया जाता है, तब ये धर्मनिरपेक्ष कहां चले जाते हैं? सनातन संस्था का क्या, जिसे सांप की तरह कुचल दिया गया? हम उनका समर्थन नहीं करते, लेकिन कम से कम एक बार तो सनातन संस्था का सच सबके सामने आने दें।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इस देश में हिंदू बहुसंख्यक हैं, फिर भी उन्हें प्रताड़ित किया जाता रहा है। हिंदुओं ने इस उम्मीद और विश्वास के साथ देश की मौजूदा सरकार चुनी कि उनके हित का ध्यान रखा जाएगा, लेकिन अभी भी हालात कांग्रेस नीत पूर्व सरकारों जैसे ही हैं।’’

उद्धव ने अनेक मुद्दों पर सामना के संपादक और राज्यसभा सांसद संजय राऊत से बातचीत की और कहा कि आम जनता घाटे में है और उसे कुछ समझ नहीं आ रहा कि देश में क्या चल रहा है।