पटना: बिहार में मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए, जिनमें लाखों लोगों ने हिस्सा लिया। अलग-अलग जिलों में केंद्रीय मंत्री लोगों के साथ शामिल होकर योगासन और प्राणायाम के गुर सीखे लेकिन नीतीश सरकार के मंत्री निमंत्रण मिलने के बाद भी योग दिवस में शामिल नहीं हुए। बिहार में नीतीश कुमार की सरकार ने कोई आधिकारिक कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जहां केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने योग कार्यक्रम में हजारों लोगों का नेतृत्व किया। रविशंकर प्रसाद ने योग को ‘वैश्विक कार्यक्रम’ बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की। रविशंकर प्रसाद, गिरिराज सिंह, रामकृपाल यादव उन केंद्रीय मंत्रियों में रहे जिन्होंने आज राज्य में अलग अलग कार्यक्रमों में योग सत्र में हजारों लोगों की अगुवाई की।

पटना में योग दिवस के कार्यक्रम में बिहार सरकार के मंत्री नहीं पहुंचे जबकि केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद योग दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए। कहा तो ये भी जा रहा है कि बिहार सरकार वर्ल्‍ड म्‍यूजिक डे मना रही है, योग दिवस नहीं।

बिहार सरकार ने विश्व योग दिवस पर ना तो कोई कार्यक्रम आयोजित किया और न ही बिहार सरकार का कोई मंत्री या विधायक योग के किसी कार्यक्रम में शामिल हुए। हालांकि पतंजलि योग समिति के सदस्यों ने खुद जाकर सरकार के अधिक्तर मंत्री से लेकर सीएम, डिप्टी सीएम और जदयू राजद के नेताओं को निमंत्रित भी किया था लेकिन भाजपा नेताओं को छोड़कर बिहार भर में हुए योग के किसी कार्यक्रम में सरकार के नुमाइंदे शामिल नहीं हुए।

जानकारी के अनुसार, सीएम नीतीश कुमार और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगियों ने पटना में आयोजित योग कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गांधी मैदान में आयोजित योग कार्यक्रम में हिस्सा लिया। जबकि नीतीश सरकार के मंत्रियों के लगाई गईं कुर्सियां खाली पड़ी रहीं। पटना के गांधी मैदान में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद सहित भाजपा के नेताओं ने दस हजार लोगों के साथ योगाभ्यास किया। इस मौके पर भारी तादाद में लोग मौजूद थे। उन्होंने कहा कि अगर बिहार के मुख्यमंत्री और मंत्री भी योग कार्यक्रम में हिस्सा लेते तो अच्छा लगता और साथ ही पूरे देश में एक अच्छा संदेश भी जाता। हालांकि, रविशंकर प्रसाद ने योग पर राजनीति नहीं करने की सलाह दी। योग राजनीति और सत्ता या विपक्ष से ऊपर है. इसमें कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए। रविशंकर प्रसाद मुख्य अतिथि के रूप में राजधानी पटना के गांधी मैदान में पतंजलि योग समिति की ओर से आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हम राजनीति करते हैं तो चुनाव लड़ेंगे, चुनाव में हारेंगे और जीतेंगे। योग तो मानव को जोड़ने की सेतु है, यह पूरे देश को जोड़ता है।

राजधानी पटना के कंकड़बाग स्थित शिवाजी पार्क मे भी पतंजलि द्वारा योग कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के साथ पार्क में सैकड़ो लोगों ने योगाचार्य के साथ योगा किया। रविशंकर प्रसाद ने इस मौके पर योगा से संबंधित 370 रुपए का डाक टिकट भी खरीदा।

राज्य की राजधानी के गांधी मैदान में योग सत्र के इतर संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा कि तंदुरूस्त रहने की इस प्राचीन पद्धति को बड़े पैमाने पर आयोजित करने से लोगों के बीच एकता को बढ़ावा मिलता है। उन्होंने योग को वैश्विक कार्यक्रम बनाने के लिए प्रधानमंत्री की तारीफ की। विश्व योग दिवस पर सैकड़ों देशों में कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मंझौले उपक्रम राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने पटना के कंकड़बाग इलाके में आयोजित योग सत्र में लोगों का साथ दिया, उनके सहयोगी मंत्री रामकृपाल यादव ने मुजफ्फरपुर में योग किया। संवाददाताओं से बात करते हुए सिंह ने नीतीश कुमार सरकार पर इस आधार पर योग का विरोध करने के लिए हमला बोला कि यह भाजपा और केंद्र की राजग सरकार का एक प्रचार अभियान है। उन्होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आपकी :नीतीश कुमार: नाराजगी समझ सकता हूं, लेकिन योग से नहीं।

गौर हो कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर बिहार में कई जगहों पर योग कार्यक्रम आयोजित किए गए। लेकिन नीतीश सरकार ने इस दिन को विश्व संगीत दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।