Select Page
महादेवगढ़ कुंडलेश्वर महादेव मंदिर में 11 फीट ऊंचा शिवलिंग भक्तों ने रूद्राक्ष से बनाया। यहां एक महीने तक अखंड ओम नम: शिवाय जाप एवं रूद्राक्ष महाभिषेक होगा। सुबह 10.30 बजे मुख्य यजमान अखिलेश गुप्ता एवं ब्राह्मणों ने जाप की शुरुआत की। संत ओंकारानंद महाराज, सुभाष खंडेलवाल, अतुल अग्रवाल, अशोक पालीवाल, सुनील जैन सहित युवा शक्ति व मातृशक्ति ने जाप किया।

 

अखिल भारतीय रूद्राक्ष महासभा के प्रेरणास्रोत महामंडलेश्वर संतश्री सुरेशानंद जी सरस्वती ने इस अवसर पर कहा रूद्राक्ष सुख शांति एवं समृद्धि लाता है। श्रावण मास में हजारों मंत्रों से ओम नम: शिवाय जप द्वारा प्राण प्रतिष्ठित रूद्राक्ष पहनने से सारे दुख दूर होते हैं। व्यक्ति स्वयं ही शिव की उर्जा महसूस करने लगते हैं। उसका सीधा संबंध शिव से होता है। जाप में जो भक्त एक माला करेगा उसे सैकड़ों मालाओं का पुण्य प्राप्त होगा। समापन दिवस पर प्रसादी के रूप में मिलने वाले इस रूद्राक्ष को परिवार एवं रोगी व्यक्ति को धारण करवाएं। प्रभाव अपने आप देखने को मिल जाएगा। शास्त्रों में इसका वर्णन है। जाप के पहले दिन दोपहर में शहर की अलग-अलग महिला भजन मंडलियों ने संगीतमय ओम नम: शिवाय का जाप कर रुद्राक्षों से बने शिवलिंग पर पुष्प अर्पित किए।