Select Page
 सिद्धपीठ मां अन्नपूर्णा देवी मंदिर अब विदेशी सैलानियों को लुभाएगा। इसके लिए इस मंदिर का जल्द ही कायाकल्प किया जाएगा। सरकार ने इस मंदिर में विदेशी पर्यटकों को बुलाने के भी इंतजाम कर लिए। मंदिर के सौंदर्यीकरण के साथ में ऐतिहासिक पंचवटी सरोवर व प्रीतम सागर को पर्यटक स्थल बनाने के प्रयास शुरू कर दिए गए हैं। कस्बे में स्थित मां अन्नपूर्णा देवी मंदिर की स्थिति दिन पर दिन बदहाल होती जा रही थी। पंचवटी सरोवर भी जर्जर हो गया था तथा प्रीतम सागर भी अपना अस्तित्व खोता जा रहा था।
अब अन्नपूर्णा मंदिर के सौंदर्यीकरण से लेकर पंचवटी सरोवर व प्रीतम सागर का भी जीर्णोद्धार कराया जाएगा। इसके लिए बीते दो दिन पूर्व पुरातत्व विभाग की लखनऊ टीम ने सर्वे भी किया है। टीम ने मंदिर के ट्रस्ट पदाधिकारियों के साथ में वार्ता की तथा मंदिर की पूरी रूपरेखा को भी तैयार कर लिया है। इसमें पंचवटी सरोवर को पक्का बनाया जाएगा तथा पानी भरने व गंदा पानी निकालने की भी व्यवस्था होगी। इसमें बिजली आदि की व्यवस्था भी की जाएगी।
सरोवर में गंदगी से बचाव की भी व्यवस्था होगी। प्रीतम सागर की जर्जर अवस्था को बदलकर उसी आकार में नया कर दिया जाएगा। मंदिर के आसपास बिजली, पानी व सड़कों को भी दुरुस्त किया जाएगा। प्रशासन के मुताबिक मंदिर में विदेशी लोगों को आने के लिए भी इंतजाम किए जाएंगे। मंदिर के कायाकल्प को लेकर तिर्वा राजपरिवार ने भी सहमति दे दी है। मंदिर ट्रस्ट अध्यक्ष सत्यप्रकाश श्रीवास्तव ने बताया कि मंदिर की किसी भी चीज को पुरातत्व विभाग द्वारा क्षति नहीं पहुंचाई जाएगी, बल्कि उसको दुरुस्त करके रंग-रोगन किया जाएगा।
मंदिर में सुरक्षा व्यवस्था को भी बढ़ाया जाएगा। उन्होंने बताया कि पुरातत्व विभाग की टीम ने सर्वे कर लिया तथा रिपोर्ट शासन को देने की बात कही थी। उन्होंने बताया कि जल्द से जल्द काम को शुरू करा दिया जाएगा।