रांची : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने कहा कि शिरडी के साईबाबा ने कभी यह दावा नहीं किया कि वह भगवान हैं और इसे लेकर ‘कोई मुद्दा नहीं’ बनाया जाना चाहिए कि उन्हें पूजा जाना चाहिए या नहीं।

आरएसएस महासचिव सुरेश भैयाजी जोशी ने कहा कि यद्यपि साईबाबा ने यह कभी नहीं कहा कि वह एक भगवान हैं। साईबाबा ने समाज की सेवा की। इसे एक मुद्दा नहीं बनाया जाना चाहिए। आरएसएस प्रवक्ता मनमोहन वैद्य ने कहा कि हिंदू समाज में प्रत्येक व्यक्ति को यह अधिकार है कि किसे पूजना है, इसका फैसला वह खुद करे।

उन्होंने कहा कि हिंदू समाज में प्रत्येक व्यक्ति को यह निर्णय करने और भगवान की पूजा करने की स्वतंत्रता है। आरएसएस में कई ऐसे स्वयंसेवक हैं जो साई के भक्त हैं। उन्होंने कहा कि पूजा तो पेड़ों और पर्वत की भी की जाती है। आरएसएस नेताओं से द्वारिकापीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती की ओर से कुछ समय पहले दिये गए उस बयान के बारे में पूछा गया था जिसें उन्होंने कथित तौर पर कहा था कि शिरडी के साईबाबा की भगवान के रूप में पूजा नहीं होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY