नई दिल्ली : हिंदुत्ववादी संगठन विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक का 89 वर्ष की उम्र में गुड़गांव के मेदांत अस्पताल में निधन हो गया। वे पिछले कुछ दिनों से सांस की तकलीफ के चलते वेंटिलेंटर पर थे।

जानिये, राम मंदिर आंदोलन से जुड़े सिंघल के जीवन से जुड़ी प्रमुख बातें-
– सिंघल का जन्म 15 सितंबर 1926 को आगरा के एक कारोबारी परिवार में हुआ था।
– आजीवन अविवाहित रहने वाले सिंघल 1942 में आरएसएस में शामिल हो गये।
– 1948 में संघ पर प्रतिबंध के दौरान उन्हें जेल भेज दिया गया था।
– आपातकाल के दौरान उन्होंने इंदिरा सरकार के खिलाफ चले अभियान में भी हिस्सा लिया।
– इसके बाद उन्होंने लंबे समय तक आरएसएस प्रचारक के तौर पर काम किया गया।
– 80 के दशक के शुरुआती समय में दिल्ली में हुए हिंदू सम्मेलन के बाद उन्हें वीएचपी की जिम्मेदारी दी गई।
– अटल सरकार के दौरान उन्होंने अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिये अनशन भी किया था।
– 2011 में वे वीएचपी के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक बन गये।
-दलितोत्थान के लिये काम करने वाले सिंघल ने दलितों के लिये सैकड़ों मंदिरों का निर्माण कराया।

LEAVE A REPLY